All works copyright of Ankita Chauhan
Please note that work here belongs to Ankita Chauhan and may not be reproduced anywhere without her prior permission.
Comments and Criticism is welcome to the posts published on the blog. Please leave your valuable comments here and if you have a blog yourself, please leave a link to that as well, I will be glad to read works of fellow writers. Thanks

मंगलवार, 7 अगस्त 2012

एक ख़याल है

एक ख़याल है
जो सुबह को बड़ी
मुश्किलों से जागता है
चादर से फिर वो अपनी
कुछ सपनो को झाड़ता है
अनमनाया सा
उठ कर चल देता है फिर
बाहर की दुनिया में
हज़ारों की भीड़ में धक्के खाता
नींद भरी उबासियाँ भरता हुआ
कभी खडा होता कभी बैठता
कभी चलता कभी दौड़ता
पहुचता है कभी वक़्त पर
तो कभी देर से
एक दुकान में कभी कुछ खरीदता
कभी कुछ बेचता है
कभी कोने में पडी बेंच पर
थोड़ा सो लेता है
और फिर अचानक से उठकर
इधर उधर देखता है
एक ख़याल मिलता है दुसरे खयालों से
और खुश हो लेता है
मुस्कराता है कभी सिर्फ
कभी बोल भी लेता है

एक ख़याल है
जो बैठ कर सुबह शाम
कागजों पर अपनी तस्वीरें उकेरता रहता है
कुछ पूरी तस्वीरें कुछ अधूरी
और कुछ ऐसी जिन्हें वो फाड़ कर फेंक देता है
उठकर एक कोने में जाता है
सोचता है कुछ
कभी चाय के प्याले साथ
एक ख़याल गरमाता है कहीं
थोड़ी ही देर में
फिर वही
दौड़ भाग
वही धक्के देकर आगे बढती भीड़
वही शोर
वही बातें
वही झगडे रोज़ के
वैसे ही लफ्ज़
वही किताबें
वही अखबार
और उसमे छपी वही ख़बरें
पेट भरने की जुगाड़
वक़्त भरने की कवायद

एक ख़याल है
दूसरों की जिंदगियों में झांकता
अपने आप से बचता हुआ
दूसरों के ख्यालों में मशरूफ
तेज शोर में कुछ झपकियाँ लेता हुआ

एक ख़याल है
जो थोड़ी देर में
बत्तियां बुझा देगा
बिखरे सपनो का तकिया बनाकर
अपनी चादर ओड़कर
सो जाएगा
और फिर से सपने बुनेगा
कल सुबह कुछ अलग होगी....

4 टिप्‍पणियां:

  1. Anki,this one is really very nice.Specially loved the last lines. Keep it up girl.Will be a regular reader of your blog now... so keep on flooding some more good ones ;)

    उत्तर देंहटाएं
  2. Hi Ankita, this one is beautiful.. I have not read all of your work, just some of them... so dheere dheere i will read more... You write tooooo beautiful.... Please also publish your writings... Love your blog, but would love to see printed version in books as well!!!!

    Rhituparna.

    उत्तर देंहटाएं
  3. "ये जो है जिंदगी"...वो इन खयालों से ही तो है |
    लाजवाब रचना |

    उत्तर देंहटाएं